आतंकियों को पनाह देने के लिए दुनियाभर की आलोचना झेलने वाले पाकिस्तान ने भारत पर बेबुनियाद आरोप लगाया है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने हाल ही में मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद के घर के पास हुए धमाके के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि एक बार फिर से इन जघन्य आतंकी हमलों की प्लानिंग और फाइनेंस भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ आतंकवाद के लिए की। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस बर्ताव के खिलाफ एक्शन लेना चाहिए।

वहीं, पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) मोईद यूसुफ ने दावा किया कि हमले का मास्टरमाइंड एक भारतीय है और उसके खुफिया भारतीय एजेंसी रॉ से संबंध हैं। यूसुफ का कहना है कि 23 जून को इस हमले के साथ ही कई साइबर हमले भी किए गए। पाकिस्तान के अखबार डान के हवाले से यूसुफ ने कहा कि साइबर हमले हमारी जांच में बाधा डालने और सबूत मिटाने के लिए किए गए थे।

23 जून को हुआ था धमाका

  • 23 जून को पाकिस्तान के लाहौर के जौहर कस्बे में एक धमाका हुआ था। इसमें 3 लोगों की मौत और 17 लोगों के घायल होने की खबर सामने आई थी। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि धमाका मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद के घर के पास हुआ था। वो फिलहाल जेल में है।
  • लाहौर पुलिस के मुताबिक, इस भीषण धमाके में करीब 30 Kg विस्‍फोटक का इस्‍तेमाल किया गया था। इसमें विदेश में बने सामान का भी इस्‍तेमाल किया गया था। धमाके की वजह से घटनास्‍थल पर तीन फुट गहरा और 8 फुट चौड़ा गड्ढा बन गया था।

FATF के फैसले से बौखलाया पाकिस्तान
हाल ही में फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने फैसला दिया था कि पाकिस्तान को आतंकी फंडिंग के लिए ग्रे लिस्ट में ही रखा जाएगा। इससे पाक को बड़ा आर्थिक नुकसान होने की संभावना है। यही वजह है कि बौखलाहट में इमरान सरकार भारत पर बेतुके आरोप लगाकर खुद को बेगुनाह साबित करना चाहता है।