जबलपुर।  कुछ विकास कार्यो के बिन्दुओं पर रेल्वे तथा अन्य विभागों में प्रस्ताव निर्णय हेतु विचाराधीन है, इसके साथ-साथ राजस्व आय के संबंध में भी प्रकरण लंबित हैं। इस संबंध में आज कलेक्टर भरत यादव की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट के जनसुनवाई कक्ष में रेल्वे एवं निगम प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक हुई। बैठक में नगर निगम और रेल्वे को जो जमीन अदान-प्रदान किया जाना है के संबंध में चर्चा हुई इसके साथ-साथ रेल्वे से बकाया सम्पत्तिकर, जलषुल्क, एवं विज्ञापन नीति के अनुसार विज्ञापन शुल्क प्राप्त करने के संबंध में भी विस्तार से चर्चा हुई। बैठक में जबलपुर मंडल के रेल प्रबंधक संजय विश्वास, निगमायुक्त अनूप कुमार सिंह, जिला प्रशासन के अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित, स्मार्ट सिटी के सी.ई.ओ. आशीष कुमार पाठक, एस.डी.एम. रॉंझी दिव्या अवस्थी, तहसीलदार रॉंझी स्वाती सूर्या, नगर निगम के अपर आयुक्त राकेश अयाची, वरिष्ठ मंडल अभियंता समन्वय संजय यादव, वरिष्ठ मंडल अभियंता मुख्यालय इदरीश मोहम्मद, नगर निगम के अधीक्षण यंत्री अजय शर्मा, कार्यपालन यंत्री कमलेश श्रीवास्तव, नवीन लोनारे, उपायुक्त राजस्व पी.एन. सनखेरे, स्वास्थ्य अधिकारी भूपेन्द्र सिंह, एवं कार्यपालन यंत्री  विजय वर्मा, आदि उपस्थित रहे। 
उपरोक्त उपस्थित अधिकारियों के समक्ष सभी विषयों पर गंभीरतापूर्वक चर्चा हुई और निर्णय लिया गया कि नगर निगम के साथ रेल्वे भूमि का आदान-प्रदान - भूमि का वर्तमान कलेक्टर गाइड लाइन के मूल्यांकन एवं छोटी लाईन फाटक चौराहा से रामलला मंदिर तक तथा रामलला मंदिर से छोटी लाईन स्टेशन ग्वारीघाट स्टेशन तक और छोटी लाईन फाटक चौड़ीकरण हेतु नगर निगम द्वारा उपयोग में लाई गई रेल्वे भूमि तथा हाईकोर्ट चौराहे की समीप की भूमि एवं गधेरी की भूमि आदि का मूल्यांकन एस.डी.एम. एवं तहसीलदार रॉंझी तथा नगर निगम द्वारा कराया जाकर भूमि आदान-प्रदान हेतु प्रस्ताव प्रस्तुत करने का निर्णय लिया गया। बैठक में यह भी अवगत कराया गया कि प्लेटफार्म नम्बर 06 की ओर निर्माणाधीन शॉपिंग काम्पलेक्स की नगर निगम भूमि का तहसीलदार द्वारा सीमांकन कर दिया गया है, जोकि त्रिकोण है। रेल्वे की ओर से जो सीमांकन तहसीलदार द्वारा कराया गया था उसकी सीमांकन रिपोर्ट विचाराधीन है, जिसपर यह भी तय किया गया कि इस त्रिकोणी जगह से लगकर आयताकार बनाने के लिए लगभग 4 हजार वर्गफुट की जरूरत होगी जिसका कलेक्टर दर पर मूल्यांकन किया जाये। नगर निगम द्वारा रेल्वे को जलापूर्ति करने के संबंध में निर्णय लिया गया कि रेल्वे के जो बल्क कनेक्शन हैं, उनका रेल्वे के इदरीश मोहम्मद एवं नगर निगम के  पी. एन. सनखेरे संयुक्त रूप से निराकरण करवाकर भुगतान योग्य राशि निकलवायेगें, साथ ही यह भी निर्णय लिया गया कि रेल्वे की ओर जो भी प्रापर्टी टैक्स / सेवा शुल्क की देनदारी का निराकरण विजय वर्मा कार्यपालन यंत्री के साथ करवायेगें।