हर घर में अपने इष्ट देवता की पूजा की जाती हैं, ताकि घर में सुख-समृद्धि और बरकत बनी रहे। माना जाता है कि पूजन जो कि भारतीय परंपरा का अभिन्न अंग है, वह व्यक्ति की मनोकामना पूर्ती के लिए बेहद जरूरी हैं। सभी लोग पूजन करते हैं, लेकिन पूजन करते समय हुई कुछ गलतियों की वजह से उन्हें मनवांछित फल नहीं मिल पाता। जी हाँ, पूजन करते समय कुछ बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता होती है, अन्यथा इसका विपरीत प्रभाव पड़ता हैं और घर में दरिद्रता, बीमारी और अशांति आ सकती है। इसलिए पूजा के समय हमारे द्वारा बताई जा रही बातों पर जरूर ध्यान दे….

 
घर में पूजा पाठ के दौरान घर में हमेशा दो दिया जलाना चाहिए। एक दीपक घी का और दूसरा तेल का।

पूजा के अंत में हमेशा आरती करनी चाहिए और आरती के बाद उसी स्थान पर तीन बार घूमकर परिक्रमा करनी चाहिए।

कहा जाता है कि पूजा के दौरान कभी भी दीपक से अगरबत्ती या धूप नहीं जलानी चाहिए। ऐसा करने से घर में दरिद्रता आती है।

माना जाता है कि पूजा के वक्त कभी भी कभी भी दीपक से दीपक नहीं जलाना चाहिए। ऐसा करने से घर में बीमारियां आती है।

 
पूजा के वक्त धूप, दीप, अगरबत्ती जलाने के बाद माचिस की तीली फूंक मारकर नहीं बुझानी चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से घर से लक्ष्मी दूर होती है।

 धर्म शास्त्रों के अनुसार बांस से निर्मित अगरबत्ती नहीं जलानी चाहिए। अगरबत्ती सिर्फ खुशबू के लिए नहीं जलानी चाहिए। अगर अगरबत्ती का सही चुनाव नहीं किया गया तो घर में गरीबी आ सकती है।