नई दिल्ली । टैक्स डिपार्टमेंट दुनिया की कुछ सबसे बड़ी ऑनलाइन गेमिंग और बेटिंग कंपनियों की जांच कर रहा है। ये कंपनियां ऑस्ट्रेलिया, कुरासाओ, साइप्रस, माल्टा, फिलीपींस और रूस जैसे देशों में रजिस्टर्ड हैं। ये कंपनियां भारत में जीएसटी का भुगतान नहीं कर रही हैं। कर अधिकारियों की जांच में सामने आया है कि कई भारतीय नियमित रूप से इन ऑनलाइन गैंबलिंग वेबसाइट्स पर जाते हैं। खासकर लॉकडाउन के दौरान शुरुआत में सख्त पाबंदियों के चलते इन वेबसाइट्स पर ट्रैफिक कई गुना बढ़ गया था। कई सेक्टरों में अब भी कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं और लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील के बावजूद इन ऑनलाइन गैंबलिंग साइट्स पर भारत में ट्रैफिक लगातार बढ़ रहा है। ये बेवसाइट्स क्रिप्टोकरेंसीज में भी सट्टा स्वीकार करती हैं, जिससे टैक्स विभाग के लिए इसका पता लगाना और मुश्किल हो गया है। विभाग की नजर दुनिया की कुछ सबसे बड़ी बेटिंग बेवसाइट्स और उनकी होल्डिंग कंपनियों पर है। 
टैक्स एक्सपर्ट्स का कहना है कि गैंबलिंग या बेटिंग प्लेटफॉर्म्स से जीएसटी कलेक्ट करना आसान नहीं है। जीएसटी कलेक्शन के लिए आपूर्ति की जगह का निर्धारण जरूरी है। यह ऐसा क्षेत्र है जिसकी कई तरह से व्याख्या हो सकती है। इनडायरेक्ट टैक्स डिपार्टमेंट की जांच एजेंसी डायरेक्टर जनरल ऑफ जीएसटी इंटेलीजेंस ने बैंकों को इन 11 वेबसाइट्स और इनकी होल्डिंग कंपनियों की बैंक डिटेल देने को कहा है। सरकार चाहती है कि ये वेबसाइट भारतीय नागरिकों के लेनदेन पर जीएसटी का भुगतान करें।